Connect with us

खेती-बाड़ी

Shatawari Cultivation किसानों के ऊपर बरस रहा पैसा ही पैसा

Shatawari Farming Kaise Kare,Is kheti ko karne se kitna Paise Kama Sakte Hai,Full Information of Shatawari

Published

on

Shatawari

Shatawari Farming Kaise Kare,Is kheti ko karne se kitna Paise Kama Sakte Hai,Full Information of Shatawari

आज के दौर में हर क्षेत्र में प्रयोग हो रहे हैं, तो किसान भी इस दौर से कैसे पीछे रह सकते हैं l किसान भी दिन-प्रतिदिन खेती से संबंधित नए-नए प्रयोग सीख रहे हैं l आज के दौर में अधिकांश किसान औषधीय पौधों की खेती करने लगे हैं,जो कम समय में तैयार होकर अधिक मुनाफा देती है l ऐसे ही एक औषधीय पौधे का नाम है सतावर।

औषधीय के हिसाब से यह पौधा अत्यंत गुणकारी पौधा होता है तथा यह कांटेदार पौधे होने के कारण पूरे हिमालय क्षेत्र में फैला रहता है ।

Shatawari की लताएं  गुच्छों में 1 से 2 किलोमीटर तक फैली रहती है l Shatawari के पौधे का इस्तेमाल कई तरह की औषधीय को बनाने में किया जाता है,जिससे किसानों को बहुत लाभ हो रहा है  l

Also Read This – Poplar Kheti

शतावरी होती है काफी गुणकारी

शतावर का पौधा(Shatawari) बेसिकली  फीमेल रिप्रोडक्टिव प्रणाली में सुधार लाने के लिए किया जाता है l इसके अलावा यह पौधा तनाव को भगाने तथा एंटी ऑक्साइड गुणों से भरपूर होता है l

इस पौधे का इस्तेमाल बढ़ती उम्र की समस्याओं को दूर करने में भी किया जाता है l

इस प्रकार से की जानी चाहिए शतावरी की खेती

पिछले कुछ वर्षों में किसानों का शतावर(Shatawari) के पौधे के प्रति Interest  बढ़ा है l किसानों की भाषा में सतावर को कई नामों से जाना जाता है,जैसे शतावरी ,सतावर,सतमूली तथा सतमूल।

सतावर की खेती(Shatawari Cultivation) को नर्सरी टेक्नोलॉजी से किया जाता है l इस टेक्नोलॉजी से जुताई करने पर किसानों को अच्छी फसल मिल जाती है।

खेती से संबंधित सलाहकार  Shatawari को तैयार करने में जैविक खाद का इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं। अगर खेती को लाभकारी बनाना हैतो उसमें पानी की व्यवस्था का उचित इंतजाम होना चाहिए l

Shatawari की खेती करके कमा सकते हैं इतने पैसे

सतावर की फसल को जोड़ने के बाद यह फसल 12 से 15 महीने में तैयार हो जाती है l

किसानों को 1 हेक्टेयर से करीबन ₹12000 से 14000 जड़े प्राप्त हो जाती हैं l

सूखने के बाद इन जड़ों का वजन आधा रह जाता है, जब किसान यह फसल बाजार में बेचने जाता है तो एक फसल पर करीबन पांच से छह लाख का लाभ मिल जाता है।

Benefits Of Shatawari

सतावर एक ऐसा चमत्कारी पौधा है,जो विभिन्न प्रकार की बीमारियों को ठीक करने के लिए किया जाता है।

  • सतावर का इस्तेमाल नींद ना आने वाली बीमारी में किया जाता है l जिसे अनिद्रा रोग भी कहते हैं l
  • इस रोग इस रोग में पकते हुए दूध में 2 से 4 ग्राम शतावरी चूर्ण तथा थोड़ा सा मिलाकर पीने से अनिद्रा रोग खत्म हो जाता है l
  • सतावर का इस्तेमाल गर्भवती महिलाओं के होने वाले शिशु के लिए बहुत फायदेमंद होता है l गर्भवती महिलाएं सतावर अश्वगंधा, भृंगराज आदि सभी को पीसकर चूर्ण बना लेती है तथा नवजात शिशु को बकरी के दूध में चूर्ण मिलाकर देने से काफी फायदा होता है।
  •  प्रेग्नेंट महिलाओं को मां बनने के बाद स्तनों में दूध बनने की समस्या होती है तथा उन समस्याओं को दूर करने के लिए 10 gm शतावर की जड़ को पीसकर दूध में मिलाकर पीने से यह समस्या दूर हो जाती है तथा स्तनों में दूध आने लगता है,जो नवजात शिशु के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है।
  • सतावर का उपयोग शारीरिक कमजोरी को दूर करने के लिए भी किया जाता है। सतावर से मालिश करने से शारीरिक कमजोरी दूर हो जाती है ।
  • Shatawari का उपयोग सर्दी जुखाम में किया जाता है l शतावर की जड़ का काढ़ा 15 से 20 अमल पीने से सर्दी जुकाम ठीक हो जाता है।
  • कभी-कभी तेज बोलने से हमारा गला बैठ  जाता है l इसका उपचार भी Shatawari Uses से किया जाता है l
  • इस परेशानी को दूर करने के लिए सतावर को शहद के साथ लेने से गला ठीक हो जाता है।
  •  सांसों के रोगों में भी शतावर बहुत उपयोगी ओषधि है l
  • शतावरी पेस्ट(Shatawari Paste)) थोड़ा सा घी और थोड़ा सा दूध लेकर घी में पकाए l इसको प्रतिदिन 5 से 10 ग्राम लेने पर सांस से संबंधित बीमारी, रक्तचाप से संबंधित, सीने में जलन, वित्त विकार आदि बीमारी भी ठीक हो जाती है।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

बिजनेस

Lemongrass Farming करके किसानों को होगा फायदा

Lemongrass Farming Kaise Kare,Is kheti ko karne se kitna Paise Kama Sakte Hai,Full Information of lemongrass

Published

on

Lemongrass Farming

Lemongrass Farming Kaise Kare,Is kheti ko karne se kitna Paise Kama Sakte Hai,Full Information of lemongrass

भारतीय सरकार किसानों के लिए समय-समय पर काफी स्कीम चलाती रहती हैं,जिससे किसानों को आत्मनिर्भर बनाया जा सके। ऐसी ही एक स्कीम अभी कुछ समय पहले सरकार ने लॉन्च की थी जिसका नाम है एरोमा स्कीम।

एरोमा स्कीम के तहत नई-नई फसलों को तैयार करना तथा उनसे ज्यादा से ज्यादा मुनाफा करना। इसी स्कीम के तहत किसानों ने एक ऐसे पौधे को तैयार किया जिससे कम समय में तैयार करके ज्यादा मुनाफा कमाया जा सकता है l जिसका नाम लेमनग्रास है।

लेमन ग्रास(Lemongrass Farming) की पत्तियों का प्रयोग साबुन डिटर्जेंट, निरमा, तेल ,हेयर ऑयल तथा सर के दर्द की दवा आदि बनाने में किया जाता है। इसलिए किसान लेमन ग्रास की खेती(Lemongrass Farming) को कम समय में तैयार करके डायरेक्ट फैक्ट्री को बेचकर कम समय में ज्यादा मुनाफा कमाते हैं।

Lemongrass पौधे में नींबू जैसी महक होती है l कुछ लोग इसे चाय में डालकर चाय का आनंद लेते हैं l चलिए हम आपको बताते हैं कि लेमन ग्रास की खेती कहां की जा सकती है और लेमन ग्रास के फायदे क्या है l

Also Read This- Strawberry Ki Kheti Se Paise Kaise Kamaye

Lemongrass Farming करने का सबसे अच्छा तरीका

Lemongrass Farming को कई नामों से पुकारा जाता है,जैसे भारतीय नींबू घास, मालाबार घास, चाइना घास, एवं कोचीन घास,  के नाम से जाना जाता है। Lemongrass Farming की खास बात यह है कि यह सूखाग्रस्त इलाकों में लगाया जाता है l

इस फसल को पानी की बहुत कम जरूरत होती है तथा किसान इस पौधे को बंजर जमीन पर भी लगा सकते हैं l

Lemongrass Farming की बुवाई में किसानों को बहुत ही कम खर्चा आता है तथा किसानों को बार-बार इसकी बुवाई की जरूरत नहीं पड़ती l

एक बार बुवाई के बाद 7 साल तक यह पौधा अपने आप ही होता रहता है l इस पौधे में नींबू की खुशबू होने के कारण लोग नींबू की जगह सुबह की चाय में लेमन ग्रास(Lemongrass uses) का उपयोग करते हैं l जो बहुत फायदेमंद होता है।

Benefits Of Lemongrass

लेमनग्रास एक ऐसा चमत्कारी पौधा है,जो विभिन्न प्रकार की बीमारियों को ठीक करने के लिए किया जाता है। इस आर्टिकल में लेमन ग्रास से संबंधित सभी फायदे(Lemongrass Benefits) नीचे बताए गए हैंl

  • इस पौधे को चाय में डालकर पीने से तनाव से मुक्ति मिलती है तथा दिन भर ताजगी का अनुभव होता है l
  • इस पौधे में मैग्नीशियम अधिक मात्रा में पाया जाता है l जब किसी व्यक्ति को मैग्नीशियम अधिक मात्रा में मिलने लगता है,तो व्यक्ति को अनिद्रा और थकान से छुटकारा मिल जाता है  तथा उसे किसी भी प्रकार का तनाव नहीं होता है।
  • लोग इसे इम्यूनिटी बूस्टर के रूप में भी यूज़ करते हैं l सुबह की चाय के दौरान लेमनग्रास(Lemongrass Leaves)की कुछ पत्तियां चाय में उबालकर पीने से इम्यूनिटी लेवल बढ़ता है।
  • लेमन ग्रास का पौधा मॉर्निंग चाय में डालकर पीने से याददाश्त बढ़ती है, क्योंकि इसमें मौजूद मैग्नीशियम फास्फोरस तथा  फोलेट नर्वस सिस्टम को हेल्दी रखने का काम करता है।
  • नियमित रूप से लेमन ग्रास का सेवन करने से वजन घटा सकते हैं, क्योंकि Lemongrass अनावश्यक चर्बी को काम करता है l
  • लेमन ग्रास हार्ट से संबंधित बीमारियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है l
  • इसका नियमित रूप से सेवन करने से शरीर में मौजूद कोलस्ट्रोल लेवल कम होता है और यह कोलेस्ट्रोल लेवल को कंट्रोल करके रखता है l जिस कारण हॉट अटैक की संभावना कम से कम रहती है।
  • लेमनग्रास पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करने में बहुत मददगार साबित होता है l
  • इसका नियमित रूप से सेवन करने से अपच ,गैस कब्ज ,एसिडिटी जैसी समस्याएं नहीं होती है।
  • लेमन ग्रास में एंटी बैक्टीरियल,एंटी फंगल गुण होने के कारण यह शरीर पर मुहासे तथा पिंपल्स नहीं होने देता।

Continue Reading

खबर

Rajasthan Budget 2022-23

Rajasthan Budget 2022-23 Issued By the Government, Check The Budget 2022-23 Important Points For Farmers

Published

on

Rajasthan Budget 2022-23

Rajasthan Budget 2022-23 Issued By the Government, Check The Budget 2022-23 Important Points For Farmers

राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने हाल ही में ही विधानसभा में Rajasthan Budget  2022-23 की घोषणा की है l इस बजट में आम जनता के लिए काफी महत्वपूर्ण घोषणाएं तो हुई है,इसी के साथ-साथ कृषि से संबंधित भी काफी योजनाएं बनाई गई हैं l

इन सभी योजनाओं को आने वाले समय में जल्दी ही शुरू कर दिया जाएगा l चलिए हम आपको बताते हैं कि Rajasthan Budget 2022-23 में कृषि से संबंधित क्या महत्वपूर्ण योजनाएं और अहम बातें सामने निकल कर आ रही है

Rajasthan Budget 2022-23 में कृषि से संबंधित यह हुई है घोषणा

राजस्थान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने यह घोषणा की है कि जल्द ही राज्य में कृषि तकनीकी मिशन की शुरुआत की जाएगी l कृषि तकनीकी मिशन की शुरुआत से राज्य में कृषि को यंत्रीकरण से जोड़ने में बढ़ावा मिलेगा और किसानों को मशीनों से संबंधित की सारी जानकारी मिल जाएगी,जिसके द्वारा किसान बेहतर से बेहतर तरीके से खेती कर पाएंगे l

अच्छी फसल के लिए निगरानी की जाएगी ड्रोन से

राजस्थान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने यह घोषणा की है कि राज्य में काफी बार ऐसे मामले सामने आए हैं जिसमें खेती को टीडी नष्ट कर देती हैं l जिससे सभी किसान भाइयों का काफी नुकसान हो जाता है l लेकिन अब राज्य सरकार के द्वारा टीडी से निपटने के लिए अब ड्रोन की सहायता ली जाएगी l

कस्टमर हायरिंग सेंटर को लगभग 1000 ड्रोन उपलब्ध करवाए जाएंगे और किसानों को ड्रोन का इस्तेमाल कैसे किया जाता है यह भी बताया जाएगा l

राजस्थान फसल मिशन की होगी शुरुआत

राजस्थान सरकार के द्वारा यह घोषणा की गई है कि जल्द ही फसल मिशन की शुरुआत की जाएगी l इस फसल मिशन के तहत लगभग एक करोड़ 2500000 रुपए की राशि तारबंदी के लिए खर्च की जाएगी ताकि फसलो की सुरक्षा की जा सके l

also Check this- KYP Online Apply 2022

राजस्थान भूमि उर्वरता मिशन से किसानों को होगा फायदा ही फायदा

Rajasthan Budget 2022-23 के अनुसार सरकार के द्वारा जल्द ही किसानों के लिए राजस्थान भूमि उर्वरता मिशन की शुरुआत की जाएगी l जिसके तहत लगभग 200000 से भी अधिक किसान इस योजना का लाभ ले पाएंगे l

पानी की समस्या का किया जाएगा निवारण

हम सभी जानते ही हैं कि राजस्थान में पानी की कितनी समस्या है l बहुत सारे जिले ऐसे हैं जहां पर पानी की समस्या के कारण किसानों को सिंचाई करने में काफी समस्या का सामना करना पड़ता है l

लेकिन Rajasthan Budget 2022-2023 के अनुसार अब किसानों को पानी की समस्या से नहीं जूझना पड़ेगा l सरकार के द्वारा जल्द ही पाइपलाइन की व्यवस्था की जाएगी जिससे ऐसे जिलों व ऐसे जगह पर पानी पहुंचाया जाएगा,जहां पानी की दिक्कत है l इस प्रोजेक्ट पर लगभग 100 करोड़ से भी अधिक पैसा लगाने का प्लान बना लिया है l

किसानों को उपलब्ध कराए जाएंगे फ्री में बीज

राजस्थान सरकार के द्वारा Rajasthan Budget 2022-23  में यह भी योजना बनाई गई है कि लघु और सीमांत किसानों को फ्री में बीज दिए जाएंगे l किसानों को जो यह बीज दिए जाएंगे वह उन्नत किस्म के होंगे l किसानों को बीज उपलब्ध कराने के लिए लगभग 30 करोड़ रुपए का बजट बनाया गया है l

Frequently Asked Question’S

Qus- राजस्थान बजट 2022-23 में शिक्षा से संबंधित कुछ योजना बनाई गई है या नहीं ?

Ans – शिक्षा से संबंधित कई योजनाएं बनाई गई हैं l

Qus- कृषि से संबंधित राजस्थान बजट में कुछ योजना बनाई गई है या फिर नहीं?

Ans- राज्य सरकार के द्वारा बजट में कृषि से संबंधित काफी योजनाओं की घोषणा की है पूरी जानकारी के लिए पोस्ट को पूरा पढ़ें

Qus- राजस्थान में मुख्य फसल कौन सी है?

Ans- सरसों की फसल

Continue Reading

खबर

strawberry-ki-kheti-se-paise-kaise-kamaye

Strawberry Ki Kheti Karke Paise Kaisa kamaye ,Kheti Karne ke liye Kin bato ka Dhyan Rakna hoga,Process of Strawberry Farming

Published

on

Strawberry Ki Kheti

Strawberry Ki Kheti Karke Paise Kaisa kamaye ,Kheti Karne ke liye Kin bato ka Dhyan Rakna hoga,Process of Strawberry Farming

Strawberry Ki Kheti Karne Ka Tarika: हम सभी जानते हैं कि आजकल खेती से काफी अच्छे पैसे कमा सकते हैं l जरूरी नहीं है कि आप अपने खेत में सिर्फ एक प्रकार की खेती करके पैसा कमाए l आप अलग-अलग चीजें उगा कर खेती से पैसा कमा सकते हैं l

पिछले कुछ वर्षों में स्ट्रौबरी की खेती का चलन भारत में बढ़ गया है l पहले स्ट्रौबरी की खेती पर अधिक ध्यान नहीं दिया जाता था लेकिन कुछ वर्षों से बहुत ज्यादा लोग भारत में Strawberry Ki Kheti करके काफी पैसा कमा रहे है l

अगर आप भी जानना चाहते हैं कि आप Kam Paise Mai Strawberry Ki Kheti Se Paise Kaise Kamaye तो हमारी इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ना l इस पोस्ट में हम बताएंगे कि स्ट्रौबरी की खेती कैसे करें और स्ट्रौबरी की खेती से पैसा कैसे कमाए l

also Read This – Kheti Se Paise Kaise Kamaye

Strawberry Ki Kheti Karne Ka Shi Samaye

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अगर आप Strawberry Ki Kheti से पैसा कमाना चाहते हैं, तो आपको यह जानकारी जरूर होनी चाहिए कि आपको स्टोबेरी की खेती किस टाइम पर करनी है l  Strawberry भारत की एक काफी पसंदीदा  फल है l यह पूरे देश में खूब बिकती है l स्ट्रौबरी को खाने से शरीर को काफी फायदे भी मिलते हैं l इसकी खेती हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा, पश्चिम बंगाल ,पंजाब ,राजस्थान में की जाती है l

इसमें विटामिन सी और आयरन भरपूर मात्रा में होता है l यह चमकीले लाल रंग जैसी दिखाई देती है l इसका उपयोग आइसक्रीम बनाने के लिए भी किया जाता है l भारत में काफी राज्य में इसकी खेती की जाती है l इसीलिए भारत मुख्यता जर्मनी, बांग्लादेश, अमेरिका को स्टॉबरी एक्सपोर्ट करता है l स्टोबेरी को पहाड़ों एवं पर्वतीय क्षेत्रों में उगाने का सही समय सितंबर से अक्टूबर का महीना रहता है l आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अगर Strawberry Ki Kheti को समय से पहले आप करेंगे तो आपको नुकसान हो सकता है l

सही समय पर Strawberry Ki Kheti ना होने के कारण हो सकता है नुकसान

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यदि आप स्टोबेरी की फसल को समय से पहले या समय के बाद बोते हैं तो वह आपको अच्छी फसल नहीं मिलेगी l ना ही अच्छी फसल होगी और ना ही आप मुनाफा कमा पाएंगे l

Strawberry Ki Kheti के लिए पहले नर्सरी से बंडल बनाया जाता है और खेत में लगाया जाता है l रोपाई से पहले कोल्ड स्टोरेज में इनको रखा जाता है l पत्ती में पानी की कमी ना हो इसके लिए मिट्टी की बार-बार सिंचाई होने आवश्यक है l इसीलिए अगर आप समय पर खेती करते हैं तो इसके ऊपर भी अच्छी होगी और गुणवत्ता में भी कोई कमी नहीं आएगी l

Strawberry Ki kheti Karne ka Shi Tarika

आपकी जानकारी के लिए बता दें यदि आप तो घर की खेती करना चाहते हैं तो खेत में स्ट्रौबरी को लगाने के लिए सभी पौधों के बीच में कम से कम 30 सेंटीमीटर की दूरी होनी चाहिए l अगर आपके पास 1 एकड़ जमीन है तो उसमें 22000  के पौधे लगाए जा सकते हैं l अगर आप हमारे द्वारा बताए गए सुझाव को अपनाएंगे तो आपकी स्ट्रौबरी की खेती काफी बढ़िया होने वाली है l

Strawberry Ki Kheti हो जाने के बाद कोल्ड स्टोरेज में 32 डिग्री सेल्सियस तक 10 दिन तक  रखा जाता है l अगर आपको कहीं दूर स्ट्रौबरी को ले जाना है तो 2 घंटे के भीतर 40 डिग्री सेल्सियस पर बिल्कुल किया जाना चाहिए ताकि Strawberry बिल्कुल Fresh दिखे l

आजकल फल एक स्थान से दूसरे स्थान काफी एक्सपोर्ट किया जाता है l इसलिए स्टोबेरी को रेफ्रिजरेटेड van में भेजा जाता है l लंबी दूरी के बाजारों के लिए ग्रेड के अनुसार स्टोबेरी की पैकिंग भी की जाती है और इन्हें गत्ते के डिब्बे में भी पैक किया जाता है ताकि यह बिल्कुल फ्रेश दिखे l

Continue Reading

Trending