Connect with us

देश-विदेश

डॉक्टरों स्वास्थ्य कर्मियों की कमी पर जनहित याचिका के तौर पर होगी सुनवाई

Published

on

doctors in india

चंडीगढ़ | हरियाणा के अस्पतालों में स्वास्थ्य केंद्रों में डॉक्टरों व स्टाफ की कमी बताते हुए प्रदेश में राइट मां हेल्थ को लागू करने की मांग मांग वाली याचिका को हाईकोर्ट की सिंगल बेंच ने जनहित याचिका के तौर पर सुनाई के लिए चीफ जस्टिस को रेफर कर दिया है

मुख्य न्यायधीश पर आधारित खंडपीठ अब इस पर जनहित याचिका के तौर पर सुनवाई करेगी| याचिका दाखिल करते हुए हाई कोर्ट को बताया गया कि प्रदेश के अस्पतालों सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में  डॉक्टरों नर्सों और अन्य स्वास्थ्य  कर्मचारियों के पद बड़ी संख्या में रिक्त पड़े हुए हैं 

याचिका में बताया गया  करोना  ने स्वास्थ्य   प्रणाली की कमजोर   कड़ियों  को उजागर किया है|   रिक्त पड़े पदों के कारण लोगों को सही प्रकार से सुविधा नहीं मिल पा रही है|  अस्पतालों में अव्यवस्था का माहौल बनता है और इसका खामियाजा आमजन को भुगतना पड़ता है |

सिंगल बेंच ने कहा कि यह मुद्दा व्यापक जनहित से जुड़ा हुआ है और ऐसे में इस पर जनहित याचिका के तौर पर की सुनवाई की जानी चाहिए| ऐसे में सिंगल  बेच ने इसे जनहित याचिका के तौर पर सुनवाई के लिए मुख्य न्यायाधीश को  रेफर कर दिया|

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खबर

सेंसेक्स 4 माह के निचले स्तर पर क्लोज, निवेशक हलाकान जानें पूरी खबर

शेयर बाजार (Stock Market) में गिरावट का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। सोमवार को भी भारतीय शेयर बाजार (Indian Share Market) में बड़ी गिरावट दर्ज हुई। BSE के ऑल सेक्टर इंडेक्स ने नीचे की ओर रुख किया जिससे निवेशक परेशान नजर आए।

Published

on

Sensex closes at 4-month low

शेयर बाजार (Stock Market) में गिरावट का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। सोमवार को भी भारतीय शेयर बाजार (Indian Share Market) में बड़ी गिरावट दर्ज हुई। BSE के ऑल सेक्टर इंडेक्स ने नीचे की ओर रुख किया जिससे निवेशक परेशान नजर आए।

शेयर मार्केट में सोमवार 20 दिसंबर, को जबरदस्त गिरावट दर्ज हुई। कोरोना वायरस के नए स्वरूप (वैरिएंट) ओमिक्रॉन के खतरों के बीच भारतीय इक्विटी बेंचमार्क चार माह के अपने सबसे लोअर लेवल पर क्लोज हुआ।

बाजार विश्लेषकों के मुताबिक ओमिक्रॉन (Omicron) संबंधी आशंका-कुशंकाओं के अलावा विदेशी निवेशकों (Foreign investors) के लगातार बिकवाली के रुख से भारतीय बाजार में गिरावट का क्रम देखा जा रहा है।

इसी क्रम में सोमवार को दोपहर 1 बजे सेंसेक्स (Sensex) में 3 फीसदी की गिरावट दर्ज हुई। इस वक्त सेंसेक्स करीब 1750 अंक से अधिक टूटकर 55 हजार के नजदीक पहुंच गया। इसी तरह निफ्टी (Nifty) में 550 अंकों की गिरावट हुई। इस गिरावट से निफ्टी 16 हजार 400 के नजदीक दर्ज किया गया। निफ्टी (Nifty) में भी 3 प्रतिशत से अधिक की गिरावट से निवेशक चिंतित दिखे।

ओमिक्रॉन के खतरों से बचने यूरोपीय देशों में प्रतिबंधों का दौर फिर ताजा हो रहा है। ईयर 2021 क्लोजिंग एवं ईयर 2022 के आगमन से जुड़े इस हॉलीडे सीज़न में निर्मित असमंजस के बादल के कारण ग्लोबल इकोनॉमी के फिर से लड़खड़ाने का खतरा पैदा हो गया है। महामारी के खतरे के बीच दुनिया भर के प्रमुख बाजारों में नकारात्मक रुख देखा जा रहा है।

दिन की सबसे बड़ी गिरावट

सेंसेक्स के 1,879 अंक लुढ़कने से 26 फरवरी के बाद एक दिन की यह सबसे बड़ी गिरावट मानी जा रही है। इसी तरह निफ्टी भी 16,450 से नीचे जाकर 16,410 के निचले स्तर पर जा पहुंचा। सेंसेक्स 1,190 अंक या 2.09 फीसदी गिरकर 55,822 जबकि निफ्टी 50 इंडेक्स 372 अंक या 2.2 फीसदी फिसलकर 16,614 पर क्लोज हुआ।

Omicron का असर 

ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों के कारण यूरोपीय देशों में नियमों को कड़ा किया जा रहा है। इसके अलावा एशियाई बाजार में भी सोमवार को गिरावट दर्ज हुई। कच्चे तेल के बाजार ने भी आज गोता लगाया। अंतरराष्ट्रीय तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 2.45 फीसदी गिरावट के साथ 71.72 डॉलर प्रति बैरल पर जा पहुंचा। सेंसेक्स में सबसे अधिक चार फीसदी की गिरावट बजाज फाइनेंस में देखी गई।

सेक्टर्स में बिकवाली हावी

शेयर मार्केट में सरकारी और प्राइवेट को मिलाकर सभी तरह के शेयर्स में बिकवाली हावी रही। पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग (public sector undertaking/PSU) यानी सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम बैंक इंडेक्स में 4 फीसद से अधिक गिरावट दर्ज हुई। बाजार में जारी गिरावट पर कब विराम लगेगा इस बारे में अनुमान लगाना टेढ़ी खीर साबित हो रहा है।

मार्केट डेटा के अनुसार बीते साल मार्च के महीने में दर्ज हुई भारी गिरावट के बाद से निवशकों को ऐसी परिस्थिति का सामना नहीं करना पड़ा था। दरअसल अप्रैल-2020 के बाद से शेयर मार्केट में रैली का माहौल रहा।

इस लगातार रैली पर अक्टूबर 2021 में विराम लगा। डेटा के अनुसार 18 अक्टूबर-2021 को सेंसेक्स 62 हजार के करीब पहुंचा, तो वहीं निफ्टी 16600 के स्तर को पार कर गया। उसके बाद से बाजार में गिरावट का दौर लगातार जारी है।

पिछले कुछ समय के दौरान तेजी से बाजार से जुड़ने वाले खुदरा निवेशक इस गिरावट के कारण परेशान हैं। गिरावट के कारण निवेशकों को रोजाना नुकसान हो रहा है।

एशियाई मार्केट में भी गिरावट 

एशियाई शेयर बाजार के साथ ही यूरोप के स्टॉक मार्केट में भी गिरावट ने निवेशकों को दुखी कर रखा है। वहीं भारतीय बाजार में इस महीने फॉरेन पोर्टफोलियो इनवेस्टमेंट (Foreign portfolio investment/FPI) यानी विदेशी पोर्टफोलियो निवेश की बिकवाली सिरदर्द बनी हुई है।

एफपीआई (FPI) से 26,687.46 करोड़ रुपये की इक्विटी का विक्रय हुआ है। पिछले सप्ताह इससे 10,452.27 करोड़ रुपये की बिकवाली हुई। इसमें घरेलू संस्थागत निवेशक खरीदारी में रुचि दिखा रहे हैं। डीआईआई ने इस माह अब तक 20,041.94 करोड़ रुपये की खरीदारी की है।

Continue Reading

खबर

हरनाज संधू ने पहना सबसे महंगा ताज जाने पूरी खबर

मिस यूनिवर्स 2021 का ताज भारत की हरनाज संधू के सिर पर सज चुका है. बता दें कि चंडीगढ़ की रहने वाली 21 साल की हरनाज के नाम एक नया कीर्तिमान भी दर्ज हुआ. हरनाज संधू ने इस प्रतियोगिता के 70 सालों के इतिहास में सबसे महंगा ताज अपने सिर पर सजाया है. यह प्रतियोगिता इजराइल में आयोजित हुई, इस प्रतियोगिता में मिस यूनिवर्स 2020 एंड्रिया मेजा ने उनके सिर पर ताज रखा.

Published

on

Harnaaz Sandhu wore the most expensive crown

मिस यूनिवर्स 2021 का ताज भारत की हरनाज संधू के सिर पर सज चुका है. बता दें कि चंडीगढ़ की रहने वाली 21 साल की हरनाज के नाम एक नया कीर्तिमान भी दर्ज हुआ. हरनाज संधू ने इस प्रतियोगिता के 70 सालों के इतिहास में सबसे महंगा ताज अपने सिर पर सजाया है. यह प्रतियोगिता इजराइल में आयोजित हुई, इस प्रतियोगिता में मिस यूनिवर्स 2020 एंड्रिया मेजा ने उनके सिर पर ताज रखा.

सबसे महंगा ताज

साल 2019 में मिस यूनिवर्स ऑर्गेनाइजेशन ने ताज बनाने की जिम्मेदारी Mouawad jewelry कंपनी को सौंपी थी. बता दें कि इन्होंने ही Mouawad power of Unity Crown तैयार किया था. मेक्सिको की एंड्रिया मेजा और अब मिस यूनिवर्स 2021 हरनाज संधू ने अब तक के सबसे महंगे ताज पहने है. बता दें कि इस ताज की कीमत 5 मिलियन यूएस डॉलर है, जो भारतीय कीमत के अनुसार  37 करोड रुपए से भी ज्यादा है. ये ताज प्रकृति, ताकत, खूबसूरती, नारीत्व और एकता से प्रेरित है. ताज को 18 कैरेट गोल्ड, 1770 डायमंड, सेंटरपीस मे शील्ड कट गोल्डन कैनरी डायमंड जिसका वजन 62.83 कैरट है, से तैयार किया गया है.

यह सुविधाएं दी जाती है फ्री 

इस ताज में पत्तियां, पंखुड़ियां और लताओं के डिजाइंस सात महाद्वीपों के समुदायों को रिप्रेजेंट करते हैं. मिस यूनिवर्स ऑर्गेनाइजेशन की ओर से आज तक प्राइज मनी का कोई खुलासा नहीं हुआ है, परंतु सभी लोगों का मानना है कि इसका इनाम लाखों में होता है. मिस यूनिवर्स को न्यूयॉर्क स्थित मिस यूनिवर्स अपार्टमेंट में 1 साल रहने की खुली इजाजत होती है, यह अपार्टमेंट उन्हें मिस यूएसए के साथ शेयर करना होता है. वही 1 साल के अंतराल में यहां सभी चीजों की सुविधा मुफ्त दी जाती है. इसके साथ ही मिस यूनिवर्स को पूरी दुनिया फ्री में घूमने का मौका मिलता है. 1 साल तक मेकअप, हेयर प्रोडक्ट, कपड़े,जूलरी, स्किन केयर सब मुफ्त दिया जाता है. इन लग्जरी के अलावा मिस यूनिवर्स पर बड़ी जिम्मेदारियां भी होती है, वह कई सोशल वर्क में बतौर चीफ  अंबेसडर  होती है.

Continue Reading

खबर

डेरा सचा सौदा के वाइस चेयरमैन से की पूछताछ जानें पूरी खबर

श्री गुरू ग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामले में पंजाब पुलिस की एसआईटी ने डेरे के वाइस चेयरमैन डॉ. पीआर नैन से साढ़े घंटे पूछताछ की। इस दौरान उनसे 125 सवाल पूछे जाने थे लेकिन नैन ने 75 सवालों के ही जवाब दिए। बाकी सवालों पर डॉ. नैन ने तबियत ठीक न होने का हवाला दिया। इसके बाद एसआईटी ने बाकी सवालों की लिस्ट डॉ. नैन और उनके वकीलों के पैनल को थमा दी। जिसमें उन्हें 48 घंटे के भीतर इनके जवाब देने को कहा गया है

Published

on

Interrogation of Vice Chairman of Dera Sacha Sauda

श्री गुरू ग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामले में पंजाब पुलिस की एसआईटी ने डेरे के वाइस चेयरमैन डॉ. पीआर नैन से साढ़े घंटे पूछताछ की। इस दौरान उनसे 125 सवाल पूछे जाने थे लेकिन नैन ने 75 सवालों के ही जवाब दिए। बाकी सवालों पर डॉ. नैन ने तबियत ठीक न होने का हवाला दिया। इसके बाद एसआईटी ने बाकी सवालों की लिस्ट डॉ. नैन और उनके वकीलों के पैनल को थमा दी। जिसमें उन्हें 48 घंटे के भीतर इनके जवाब देने को कहा गया है। डेरे की चेयरपर्सन विपासना इंसां एसआईटी को वहां नहीं मिली। एसआईटी के चीफ IG एसपीएस परमार ने कहा कि वह इस पूछताछ से संतुष्ट नहीं हैं।

एसआईटी IG एसपीएस परमार की अगुवाई में एसएसपी मुखविंदर भुल्लर, डीएसपी लखबीर सिंह और इंस्पेक्टर दलबीर सिंह टीम में शामिल थे। इससे पहले टीम रोहतक की सुनारिया जेल में राम रहीम से भी पूछताछ कर चुकी है। पंजाब में बेअदबी केस की जांच के लिए दो एसआईटी, CBI और रणजीत सिंह कमीशन के बाद 5वीं बार यह जांच हो रही है।

पूछताछ इसलिए अहम

कुछ दिन पहले एसआईटी ने रोहतक की सुनारिया जेल जाकर बाबा राम रहीम से पूछताछ की थी। जिसमें राम रहीम ने कहा कि उनका काम सिर्फ सत्संग करना था। डेरे की कमाई, प्रॉपर्टी से लेकर हर तरह के काम के बारे में डेरा प्रबंधकों को ही पता होगा। एसआईटी यही स्पष्ट करना चाहती है कि फरीदकोट में हुए बेअदबी केस में डेरा प्रबंधकों की कोई भूमिका तो नहीं। हालांकि राम रहीम समेत डेरे के तमाम लोग बेअदबी की घटना में हाथ होने से इनकार कर चुके हैं।

Continue Reading
Advertisement

Trending