Connect with us

शिक्षा

निजी स्कूलों से जुड़ेंगे सरकारी स्कूल जानें पूरी खबर

Government schools will be connected with private schools

Published

on

Government schools will be connected with private schools

स्कूली शिक्षा के लेवल को सुधारने और उन्हें इन्फ्रास्ट्रक्चर के स्तर पर मजबूत बनाने के लिए सरकार वैसे तो कई जरूरी कदम उठा रही है. लेकिन इनमें जो सबसे महत्वपूर्ण है वो सरकारी स्कूलों को प्राइवेट स्कूलों के साथ जोड़ने की योजना है.

इस योजना के तहत प्रत्येक सरकारी स्कूल को किसी प्राइवेट स्कूल के साथ संबद्ध किया जाएगा ताकि दोनों आपस में भागीदारी कर एक-दूसरे के संसाधनों का इस्तेमाल करें और एक-दूसरे के बेहतर कामकाज को भी अपना सकें.

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू होने के बाद स्कूली शिक्षा का स्तर उपर उठाने के लिए दूसरा जो अहम कदम उठाया गया है ,वह विद्यांजलि योजना का नया चरण है. इस योजना के तहत कोई भी शिक्षित या हुनरमंद व्यक्ति अब स्वयंसेवक के रूप में स्कूलों के साथ जुड़कर नई पीढ़ी के भविष्य को संवारने में मदद कर सकेगा.

इसमें रिटायर टीचर्स, खेल जगत से जुड़ी प्रतिभाएं, रिटायर अधिकारी आदि में से कोई भी हो सकता है. हालांकि इसके लिए उन्हें पहले रजिस्ट्रेशन कराना होगा और साथ ही किस क्षेत्र में निपुणता है ,उसकी जानकारी देनी होगी. इसके आधार पर जरुरतमंद स्कूल ऐसे लोगों को खुद ही अपने यहां बच्चों की कक्षाएं लेने के लिए आमंत्रित करेंगे.

सरकार की इस पहल के बाद अब तक करीब पांच हजार लोगों ने स्वयंसेवक के रूप में रजिस्ट्रेशन कराया है. पढ़ाने के साथ-2 यें लोग स्कूलों को जरुरी संसाधन भी मुहैया करवा सकते हैं. अब तक करीब 20 हजार स्कूलों में से 12 हजार स्कूलों को इन स्वयंसेवकों द्वारा मदद भी दी जा चुकी है.

लैस होना जरूरी

हालांकि सरकार इस मुहिम में तेजी लाने के प्रयास के तहत लोगों से आगे आने की अपील कर रही है. इसके साथ ही सरकार इस मुहिम को गांव की शान से भी जोड़ने की योजना बना रही है,ताकि इन स्कूलों से पढ़कर निकलने वाला व्यक्ति स्कूलों की बेहतरी में और अधिक योगदान दें सकें

मौजूदा समय में देश के सरकारी स्कूलों की अपनी पक्की इमारतें तो है लेकिन ज़रुरी संसाधनों का आज भी कहीं अभाव है. गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए स्कूल में सभी जरुरी संसाधनों का होना बहुत आवश्यक है.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खबर

13 दिसंबर से शुरू होगी मूल्यांकन परीक्षा जाने पूरी खबर

 हरियाणा के सरकारी स्कूलों के 25 लाख छात्र ऑफलाइन मूल्यांकन परीक्षा में शामिल होंगे. स्कूल शिक्षा विभाग ने पहली से 12 वीं तक के छात्रोंं की यह परीक्षा संयुक्त रुप से आयोजित करने का निर्णय लिया है. यें परीक्षाएं 13 दिसंबर से शुरू हो रही है. डीईओ, डीईईओ को शिक्षा निदेशालय सीलबंद लिफाफे में प्रश्न- उत्तर पुस्तिकाओं को भेजेगा. वें इन्हें छपवाकर स्कूलों को भिजवाएंगे.

Published

on

Evaluation exam will start from December 13

परीक्षा में शामिल होंगे

 हरियाणा के सरकारी स्कूलों के 25 लाख छात्र ऑफलाइन मूल्यांकन परीक्षा में शामिल होंगे. स्कूल शिक्षा विभाग ने पहली से 12 वीं तक के छात्रोंं की यह परीक्षा संयुक्त रुप से आयोजित करने का निर्णय लिया है. यें परीक्षाएं 13 दिसंबर से शुरू हो रही है. डीईओ, डीईईओ को शिक्षा निदेशालय सीलबंद लिफाफे में प्रश्न- उत्तर पुस्तिकाओं को भेजेगा. वें इन्हें छपवाकर स्कूलों को भिजवाएंगे.

दिशानिर्देश जारी

शिक्षा निदेशालय ने सभी डीईओ, डीईईओ को परीक्षा के सफल आयोजन को लेकर दिशानिर्देश जारी कर दिए हैं. भाषाई प्रश्नों को छोड़कर प्रश्न पत्र हिंदी और इंग्लिश दोनों भाषाओं में होंगे. प्रश्न पत्रों की छपवाई के लिए प्रति जिला 5 लाख रुपए की राशि जारी की जाएगी. स्कूल मुखिया को सीलबंद लिफाफे में हीं प्रश्न- उत्तर पुस्तिका लेनी होगी. इन्हें सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी भी उन्हीं की होगी और परीक्षा समय से 10 मिनट पहले ही छात्रों को मुहैया करवाएंगे.

प्रश्न- उत्तर पुस्तिका की छपवाई का टेंडर लेने वाली कंपनी को गुणवत्ता व गोपनीयता का प्रमाण पत्र डीईओ, डीईईओ को देना होगा. छपवाई से पहले अधिकारी स्कूल वार छात्रों की संख्या की सटीक जानकारी रखें और एमआईएस से डाटा का मिलान जरुर करें. छात्रों की संख्या की ताज़ा जानकारी स्कूलों से मंगवा ली जाएं.

डेटशीट

शिक्षा निदेशालय ने सभी स्कूल प्रभारियों व विषय शिक्षकों को निर्देश दिए हैं कि वें छात्रों को डेटशीट कॉपी में अवश्य नोट करवाएं. छात्रों को डेटशीट कॉपी पर अभिभावकों से हस्ताक्षर करवाकर लाने होंगे. वैकल्पिक विषयों के प्रश्नपत्र स्कूल मुखिया को अपने स्तर पर तैयार करवाने होंगे. परीक्षा के दिन हीं उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन कर रिजल्ट को शिक्षक- अभिभावक मीटिंग में अवश्य प्रस्तुत किया जाएं.

Continue Reading

खबर

हरियाणा छात्रवृत्ति NTSE के लिए आवेदन शुरू जानें पूरी खबर

राष्ट्रीय प्रतिभा खोज योजना हरियाणा सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा चलाई जा रही है इसका उद्देश्य प्रभावशाली विद्यार्थियों का चयन कर उनका शिक्षित विकास करना है छात्रवृत्ति योजना के तहत देश भर में 2000 विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है इस योजना के तहत विद्यार्थियों के चयन हेतु चयन परीक्षा दो चरणों में आयोजित की जाती है

Published

on

Application for Haryana Scholarship NTSE started

राष्ट्रीय प्रतिभा खोज योजना हरियाणा सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा चलाई जा रही है इसका उद्देश्य प्रभावशाली विद्यार्थियों का चयन कर उनका शिक्षित विकास करना है छात्रवृत्ति योजना के तहत देश भर में 2000 विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है इस योजना के तहत विद्यार्थियों के चयन हेतु चयन परीक्षा दो चरणों में आयोजित की जाती है

NTSE Level -| :-

 राज्य स्तर पर हरियाणा प्रदेश के दसवीं कक्षा के विद्यार्थियों 16 जनवरी 2022 को यह परीक्षा हरियाणा शिक्षा बोर्ड भिवानी द्वारा आयोजित की जाएगी इस परीक्षा से चयनित छात्र प्रतिभाशाली विद्यार्थियों राष्ट्रीय स्तर (NTSE Level-|| ) के लिए पत्र होंगे

(NTSE Level-|| )  

 राज्य स्तर पर चयनित 186  प्रतिभाशाली विद्यार्थियों की  ( NTSE Level -|| )  परीक्षा 12 जून 2022 को एनसीआरटी दिल्ली द्वारा आयोजित की जाएगी एनटीएससी लेवल सेकंड देशभर के लगभग 2000 विद्यार्थियों को  छात्रवृत्ति नियमानुसार दी जाएगी

  1.  छात्रवृत्ति 1250/ – प्रतिमा कक्षा 11  वी  से 12वीं
  2.  छात्रवृत्ति 2000/-  प्रतिमा कक्षा स्नातक एवं स्नातकोत्तर
  3.  छात्रवृत्तिUGC नियमानुसार पीएचडी विद्यार्थियों

NTSE Level -1  के लिए  पात्रता के नियम व शर्तें

1  हरियाणा प्रदेश सरकार द्वारा  सभी विद्यार्थी (सरकारी  सरकारी अनुदान प्राप्त  निजी   विद्यालय जवाहर नवोदय एवं केंद्र विद्यालय )  सत्र 2020-21 में दसवीं कक्षा में पढ़ रहे थे जिन्होंने नौवीं कक्षा( सत्र   2019-20)   मैं 60% या इससे अधिक अंक प्राप्त किए हो आरक्षित  वर्ग (SC व ph)  के लिए 5 % की छूट दी जाएगी

2  इन परीक्षा में भाग लेने हेतु मुक्त एवं  दूरवर्ती शिक्षा संस्थानों ( NIOS, ODL, SOS )  मैं पढ़ रहे विद्यार्थियों भी आवेदन कर सकते हैं यदि 1 जुलाई 2021 तक उनकी आयु 18 वर्ष से कम हो और वह कभी नौकरी न करते हो इसके लिए सक्षम अधिकारी द्वारा जारी प्रमाण पत्र की आवश्यकता होगी  

 नोट ( क) NCERT  केदिशा निर्देशों के अनुसार 15%  अनुसूचित जाति 7.5%  सीटें अनुसूचित  जनजाति 27%  सीटें अन्य पिछड़ा वर्ग4%   सीटें दिव्यांग विद्यार्थियों  (with in category )  40%  से अधिक )  तथा 10% सीटें आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग ( जोSC ST  तथाOBC  के आरक्षण में शामिल न हो )  के लिए आरक्षित होगी |  आरक्षित वर्ग से आवेदन करने वाले विद्यार्थियों को सक्षम अधिकारियों द्वारा जारी प्रमाण पत्र की सत्यापित छाया प्रति ( EWS  के लिए माता-पिता की वार्षिक आय एवं संपत्ति प्रमाण पत्र )  ऑनलाइन आवेदन पत्र के साथ अपलोड करनी होगी 

 ( ख)  परीक्षा शुल्क -:  निशुल्क

3  परीक्षा विज्ञापन प्रतिभा खोज योजना ( HScTSS)  :-  छात्रवृत्ति के लिए छात्रों के चयन हेतु NTSE Level -1   की लिखित परीक्षा को आधार बनाया जाता है |  इसकी कुल 1500  छात्रवृत्ति या हैं 1250  छात्रवृत्ति हरियाणा विद्यालय बोर्ड से Affilated  स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों के लिए तथा 250  छात्रवृत्ति हरियाणा में स्थित है अन्य स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों के लिए है

 छात्रवृत्ति 1000 /-  रुपए प्रतिमाह कक्षा  11वीं 12वीं 

अप्लाई  हेतु लिंक

Continue Reading

खबर

हरियाणा के प्रत्येक जिले में एक मेडिकल कॉलेज खोला जाएगा जानें पूरी खबर

हर जिले में एक मेडिकल कॉलेज खोला जाएगा.  मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बताया कि उनकी सरकार ने एमबीबीएस कॉलेजों में सीटों को भी बढ़ा दिया है.  उन्होंने यह भी बताया कि डॉक्टरों की मांग रही है कि प्रत्येक जिले में एक कॉलेज खोला जाए.  अब प्रदेश के हर जिलों में एक मेडिकल कॉलेज खोला जाएगा.

Published

on

A medical college will be opened in each district of Haryana

हर जिले में एक मेडिकल कॉलेज खोला जाएगा.  मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बताया कि उनकी सरकार ने एमबीबीएस कॉलेजों में सीटों को भी बढ़ा दिया है.  उन्होंने यह भी बताया कि डॉक्टरों की मांग रही है कि प्रत्येक जिले में एक कॉलेज खोला जाए.  अब प्रदेश के हर जिलों में एक मेडिकल कॉलेज खोला जाएगा.

MBBS की सीटें

 प्रदेश में डॉक्टरों की मांग को पूरा करने के लिए हर जिले में एक मेडीकल कॉलेज खोलने की प्रक्रिया जारी है. उन्होंने कहा कि हर वर्ष 2500 डॉक्टर तैयार करने का लक्ष्य रखा गया है और इसके लिए MBBS की सीटें बढा कर 1685 की गई हैं जो 2014 में 700 थी.

वटवृक्षपुरस्कार

हरियाणा मेडीकल काउंसिल के तत्वावधान में आयोजित डॉक्टर्स डे अवार्ड समारोह में बतौर मुख्यातिथि संबोधित कर रहे थे. कार्यक्रम में मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री ने 75 वर्ष से अधिक आयु के 90 डॉक्टरों को वटवृक्षपुरस्कार से सम्मानित किया गया है. इसी समारोह में मुख्यमंत्री ने घोषणा करते हुए कहा कि अब हरियाणा के प्रत्येक जिले में एक मेडिकल कॉलेज खोला जाएगा. उन्होंने यह भी बताया कि प्रदेश सरकार इस दिशा में निरंतर काम कर रही हैं. जल्द ही प्रदेश के हर जिले में  मेडिकल कॉलेज खोले जाएंगे.

लक्ष्य

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने हरियाणा में डॉक्टरों की मांग को पूरा करने के लिए हर जिले में एक मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा की है उन्होंने बताया कि उनकी सरकार का हर वर्ष ढाई हजार डॉक्टर तैयार करने का लक्ष्य है तथा जिसके लिए एमबीबीएस की सीटों को भी बढ़ा दिया गया है.  मुख्यमंत्री ने प्रत्येक जिले में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा अवार्ड समारोह को संबोधित करते हुए की है.  इसकी जानकारी हरियाणा सरकार ने ट्विटर के माध्यम से साझा की है.

Continue Reading
Advertisement

Trending